guru

चमत्कारिक गुरु के रुप में अपने समर्थकों के बीच मशहूर बाबा राम रहीम का जीवन रहस्यों से घीरा हुआ है।बाबा राम रहीम का जन्म 15 अगस्त 1967 को राजस्थान के गंगा नगर में हुआ था।राम रहीम के माता-पीता पहले से ही डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी थे।शादी के बाद 6-7 साल तक कोई संतान नहीं होने पर राम रहीम के माता पिता उस समय के डेरा सच्चा सौदा के गुरु के पास गए।कहते हैं कि उनके आशीर्वाद से ही राम रहीम का जन्म हुआ था।इसके बाद से ही राम रहीम के परिवार की आस्था डेरा के लिए बहुत ज्यादा बढ़ गई।7 साल के उम्र में ही तत्कालीन डेरा प्रमुख ने राम रहीम को अपना लिया था।1990 में राम रहीम तत्कालीन डेरा प्रमुख के मृत्यु के बाद खुद डेरा प्रमुख बन गया।वैसे तो डेरा सच्चा सौदा की स्थपना सामाजिक कार्यों और गरीबों की मदद के लिए हुई थी लेकिन राम रहीम के आते ही डेरा सच्चा सौदा का स्वरुप बदलने लगा।अब डेरा का विस्तार काफी तेजी से किया जाने लगा।भोग-विलास के साधनों पर ज्यादा जोर दिया जाने लगा।या यूं कहे कि बाबा की रहस्यमयी दुनिया के अंदर पूरा डेरा सच्चा सौदा अपना असली वजूद खोने लगा।समर्थक भी उसकी जादूई जुबान के शिकार होकर उसको एक चमत्कारिक बाबा मानने लगे।समर्थकों को लगता था कि बाबा के पास कुछ जादू है जिससे वो हर मुश्किल को आसान कर देता है।यहीं से रामरहीम ने शुरु किया अपने झूठ-फरेब के साम्राज्य का विस्तार।जहां किसी भी नियम रिश्ते विश्वास की धज्जियां उड़ना उसके लिए महज एक खेल बन गया था।

1.बाबा के गुंडागर्दी, विवाद और रहस्य की कहानी की शुरुआत होती है 1998 के एक घटना से।गांव बेगू के एक बच्चे की मौत डेरा की जीप के नीचे आकर हो गई थी।जिसपर काफी हंगामा हुआ था ।वहां के अखबार ने इस खबर को प्रमुखता से छापा था।जिसके बाद डेरा के लोग जाकर अखबार के कार्यलय में हंगामा किया था।बाद में इसके लिए डेरा को माफी भी मांगनी पड़ी थी।

2. 2002 में बाबा पर साध्वी के साथ रेप का संगीन आरोप लगा।साध्वी ने एक गुमनाम पत्र तत्कालिन प्रधानमंत्री अटल बीहारी बाजपेई और पंजाब और हरियाणा उच्च नयायालय के मुख्य न्यायाधीश को लिखा।चिट्ठी में गुरमीत राम रहीम पर यौन शोषण का आरोप लगा गया था।बाद में इसकी जांच सीबीआई को सौंप दी गई।डेरा सच्चा सौदा पर मुस्तैदी से खबर छाप रहे अखबार पूरा सच के संपादक रामचंद्र छत्रपति की गोली मारकर हत्या कर दी गई।

3.2007 में गुरमीत राम रहीम एकबार फिर विवाद में आया।इसबार विवाद का कारण उसका ड्रेस था। गुरमीत राम रहीम ने सिक्खों के दसवें गुरु गुरु गोविंद सिंह की वेशभूषा में अपनी फोटो खिंचवा कर हर जगह लगाई थी।इससे सिक्ख नाराद हो गए और डेरा के समर्थकों पर हमला कर दिया।हिंसा ने काफी उग्र रुप ले लिया ।काफी मुश्किल से इसपर काबू पाया गया।

4.रहस्यों का आवरण ओढ़े हुए गुरमीत राम रहीम का हर काम के पीछे कोई राज और मकसद होता था जिसे वो धर्म का चोला पहनाकर करता था।कहा जा रहा है कि उसने लगभग 400 लोगो को नपुंसक बना दिया था।इसेक पीछे उसका तर्क था कि इससे वो प्रभु के नजदिक आसानी से पहुंच सकेंगे।

5.तरह-तरह के नामों से खुद को प्रचारित करने वाला गुरमीत राम रहीम ने खुद को मैसेंजर ऑफ गॉड बताकर फिल्में भी बनाई।जिसमे वो खुद हीरो था और तथाकथित उसकी बेटी हनीप्रीत इंसा हीरोइन थी।फिल्म का दो सीरीज आ चुका है।इस फिल्म के माध्यम से गुरमीत राम रहीम खुद को सुपर अवतार साबित करना चाह रहा था जो सबकी हर मुश्किल और गलत काम को तुरंत खत्म कर देता है।

6.हरियाणा के सिरसा में 700 एकड़ में फैला गुरमीत राम रहीम का डेरा सच्चा सौदा का आश्रम की दुनिया एक रहस्मयी दुनिया है।यहां गुरमीत राम रहीम का कानून चलता था।ऐसा माना जा रहा है कि वहां उसकी अपनी सेना थी।अपना सिक्का था । गुरमीत राम रहीम का अपना शापिंग कॉम्पलेक्स भी है जिसमे हर सामान पर सच लिखा रहता है। सच शब्द के अर्थ का अनर्थ करते हुए उसकी आड़ में गुरमीत राम रहीम खुद झूठ में सिर से पांव तक डूबा हुआ था।लेकिन कहते हैं कि पाप का घड़ा एक दिन जरुर भरता है ये पूरी तरह सच साबित हुआ ।गुरमीत राम रहीम पर 15 साल से चल रहे रेप केस पर 25 अगस्त को आए ऐतिहासिक फैसले में गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिया गया और 28 अगस्त को गुरमीत राम रहीम को सीबीआई के विशेष अदालत में 20 साल की सजा सुना दी गई है।अब ग्लैमरस जिंदगी जी रहे गुरमीत राम रहीम का पता है हरियाणा मे रोहतक जेल और कैदी नंबर 1997।