sachin rekha

मंगलवार को राज्यसभा में सचिन और रेखा की गैरहाजरि को लेकर काफी बवाल हुआ। सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने मार्च में भी इस मुद्दे को उठाया था। मंगलवार को भी सदन की कार्यवाही शुरु होते ही एकबार फिर सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने मुद्दे को उठाते हुए कहा कि सचिन और रेखा सदन की कार्यवाही में शामिल क्यों नहीं होते हैं। सदन में कुल 12 मनोनित सदस्य हैं जिनमें सचिन और रेखा भी है । ये दोनो इस बार एकबार भी सत्र में शामील नहीं हुए हैं।सांसद ने कहा कि जब विजय माल्या को बाहर निकाला जा सकता है तो इन दोनों को क्यों नहीं। नरेश अग्रवाल के प्रश्न का जबाव देते हुए कुरियन ने कहा कि दोनों ने छुट्टी ले रखी हैं।




इसपर सपा सांसद ने आपत्ति जताते हुए कहा कि ये लोग विज्ञापन में व्यस्त रहते हैं।सचिन 2012 में राज्य सभी के सदस्य बनें थे। अप्रैल 2017 तक 348 दिन में सचिन कुल 23 दिन हाजिर रहे हैं। जबकि इसी दौरान रेखा सिर्फ 18 दिन हाजिर रही हैं। सचिन ने इसी साल फरवरी में महाराष्ट्र के एक गांव दोजा को गोद लिया है।जिसके विकास काम के लिए सचिन को 4 करोड़ का फंड दिया जा चुका है। इसके अलावा सचिन को अभी तक सेलरी के तौर पर 58.8 लाख रुपए और रेखा को 65 लाख रुपए दिए जा चुके हैं।