शुभ मुहूर्त में बंधी राखी से टलेगा हर संकट पूरी होगी मनोकामना…

raksha-bandhan

भाई बहन के अटूट प्रेम का प्रतिक है रक्षाबंधन का त्यौहार। बहनें पूरे साल इंतजार करती हैं इस पावन त्यौहार का। इसबार रक्षाबंधन 7 अगस्त को पड़ रहा है।12 साल के बाद ऐसा संयोग बन रहा है कि रक्षाबंधन के दिन चंद्रग्रहण भी लग रहा है। साथ ही सुबह 11:04 बजे तक भद्रा भी है।ऐसे में सुबह 11:05 बजे के बाद ही राखी बांधे तो अच्छा रहेगा।

रक्षाबंधन के शुभ मुहूर्त

7 अगस्त दिन सोमवार सुबह 11:05 से 1:52 मिनट तक का समय सर्व श्रेष्ठ समय है राखी बाधने के लिए । इस समय ना तो ग्रहण के सूतक का दोष लगा होगा और ना ही भद्रा रहेगा ।चंद्रग्रहण 7 अगस्त सोमवार को रात में 10:53 मिनट से शुरु हो रहा है।ज्योतिषों के अनुसार ग्रहण से 9 घंटे पहले सूतक लग जाता है।यानि की 1:53 मिनट से सूतक लग जाएगा।भद्रा में भी शुभ कार्य मना होता है।इसलिए11:04 मिनट तक का समय भी अच्छा नहीं है।भद्रा में राखी ना बाधने के पीछे भी बड़ी रोचक कहानी प्रचलित है।कहते हैं कि रावण की बहन सूपर्णनखा ने रावण को भद्रा में राखी बांधी थी इसीलिए रावण का विनाश हो गया।